इत्मीनान।

सुन लो भैया एक और दास्तां, आ ही गये थे लखनऊ तो सोचा अपना दार्शनिक 'मोड' ऑन कर लें। तो हुआ ऐसा की हमे दिल वालों की दिल्ली में ज़रा…

0 Comments

छत्तीस का आंकड़ा।

PATANG AUR MAIN ये इस साल का मेरा पहले लेख है, कई बार कोशिश करी थी पहले लिखने की कलम भी उठाई पर कुछ लिख नही पाया,  शायद विश्व मे…

0 Comments

मेरा शहर- एक नशा।

Lucknow! Mera Seher सर्द हवाओं और सन सनाती गाड़ियों बीच मैं भी स्पेलेंडर प्लस की  पीछे वाली सीट पर बैठा मज़े लिए जा रहा था। अँधेरी सैड़कों पर नन्ही नन्ही…

0 Comments

कसोल तक का सफर और शेरू Part 2

टीले पर पहुंचकर जब मैंने अपने नजर दौड़ाई तब तो कुछ पर तो होश में होकर भी बेहोश था।पार्वती नदी का वो दहाड़े मार कर बहते पानी में मुझे इतना…

0 Comments

कसोल तक का सफर और शेरू। Part I

मैं हर कदम उन वादियों में बढ़ रहा था, बिना सोचे समझे। ऊँचा- नीचा रास्ता, हरी भरी झाड़ियां, अमिताभ बच्चन से भी लंबे पेड़ और अपनी आगोश में भरते दूध…

0 Comments

End of content

No more pages to load