Categories: Travel

नन्दप्रयाग (Nandrprayag) : नन्दाकिनी तथा अलकनंदा नदियों का संगम स्थल !

Nandrprayag : नन्दाकिनी तथा अलकनंदा नदियों के संगम पर नन्दप्रयाग स्थित है। यह सागर तल से २८०५ फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है। कर्णप्रयाग से उत्तर में बदरीनाथ मार्ग पर 21 किमी आगे नंदाकिनी एवं अलकनंदा का पावन संगम है। पौराणिक कथा के अनुसार यहां पर नंद महाराज ने भगवान नारायण की प्रसन्नता और उन्हें पुत्र रूप में प्राप्त करने के लिए तप किया था।

यहां पर नंदादेवी का भी बड़ा सुंदर मन्दिर है। नन्दा का मंदिर, नंद की तपस्थली एवं नंदाकिनी का संगम आदि योगों से इस स्थान का नाम नंदप्रयाग पड़ा। संगम पर भगवान शंकर का दिव्य मंदिर है। यहां पर लक्ष्मीनारायण और गोपालजी के मंदिर दर्शनीय हैं।इसके अलावा यहां चंडिका देवी का मंदिर है। यहां नवरात्रि के दौरान भव्य मेले का आयोजन किया जाता है।


Nandrprayag आवागमन का मार्ग

यह स्थल उत्तराखंड के चमोली जिले और कर्णप्रयाग के मध्य स्थित है। कर्णप्रयाग से नंदप्रयाग की दूरी केवल 21 किमी है। बाकी प्रयागों की भांति नंदप्रयाग भी बद्रीनाथ के रास्ते में ही पड़ता है,

जिसके लिए आपको अलग से किसी और रास्ते की तरफ रूख करने की आवश्यकता नहीं। अगर आप कर्णप्रयाग में ज्यादा देर रूकना नहीं चाहते हैं तो आप रात्रि विश्राम चमोली या जोशीमठ में कर सकते हैं। जोशीमठ से कर्णप्रयाग की दूरी मात्र 69 किमी है। आपको जोशीमठ में रूकने के लिये होटल्स और लॉज आसानी से मिल जाएंगे।

सैलानियों के लिए विशेष महत्व

दार्शनिक, आध्यात्मिक और पर्यटन के लिहाज से इस देव स्थल की अपनी अलग पहचान है। भगवान कृष्ण के दर्शन के लिए यहां देश-विदेश से आने वाले सैलानियों का तांता बना रहता है।

मानसिक शांति और बौद्धिक विस्तार के खोजी यहां आकर अपने जीवन के खूबसूरत पलों में एक और अध्याय जोड़ सकते हैं। प्राकृतिक सुंदरता के प्रेमी यहां भरपूर आनंद ले सकते हैं। साथ ही दुर्लभ वनस्पति के खोजी अपने क्रियाकलापों को नया आयाम दे सकते हैं।

अलकनंदा नदी के दोनों तरफ फैले घने पहाड़ी जंगल टैकिंग, नाइट कैंपेनिंग के लिए विख्यात हैं। यहां रिवर रॉफ्टिंग का अनोखा अनुभव लिया जा सकता हैं। साथ ही परिवार के साथ मजेदार पल बिता सकते हैं।

यहां आप रॉक क्लाइबिंग का रोमांच भरा अनुभव भी ले सकते हैं। साथ ही नंदप्रयाग से निकलकर आप रूपकुंड में भी बेहतर ट्रेकिंग का मजा ले सकते हैं।

Also read : विष्णुप्रयाग (Vishnuprayag) – धौली गंगा और अलकनंदा का संगम स्थल !

infopyramid.com

Share
Published by
infopyramid.com

Recent Posts

कर्णप्रयाग ( karanprayag ) : अलकनंदा तथा पिण्डर नदियों का संगम स्थल !

Karanprayag : अलकनंदा तथा पिण्डर नदियों के संगम पर कर्णप्रयाग स्थित है। पिण्डर का एक…

4 weeks ago

विष्णुप्रयाग (Vishnuprayag) – धौली गंगा और अलकनंदा का संगम स्थल !

Vishnuprayag-धौली गंगा तथा अलकनंदा नदियों के संगम पर विष्णुप्रयाग स्थित है। संगम पर भगवान विष्णु…

4 weeks ago

Uttarakhand ke panch prayag : देव भूमि के प्रसिद्ध पंच प्रयाग, जानिए क्यों हैं विख्यात!

Uttarakhand ke panch prayag : देवों की भूमि कहा जाने वाला उत्तराखंड जहां एक ओर पर्यटक स्थल…

4 weeks ago

Top places to visit in Dehradun : देहरादून के अविश्वसनीय पर्यटन स्थल

Top places to visit in Dehradun: उत्तराखंड को देव भूमि के नाम से  जाना जाता…

4 weeks ago

इत्मीनान।

सुन लो भैया एक और दास्तां, आ ही गये थे लखनऊ तो सोचा अपना दार्शनिक…

1 month ago

मेरे बढ़ते कदमों की आहट।

करीब आज शाम के 7 बज रहे थे और मैं रोज़ की तरह कसरत कर…

2 months ago